आर्थिक वृद्धि को गति देने के लिये और कदम उठाने से नहीं झिझकेंगे: दास…

आर्थिक वृद्धि को गति देने के लिये और कदम उठाने से नहीं झिझकेंगे: दास…

नई दिल्ली|रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास नेउद्योग को आश्वासन दिया कि केंद्रीय बैंक आर्थिक स्थिति पर नजर रखे हुए है और वह जरूरत पड़ने पर उपयुक्त कदम उठाने से नहीं झिझकेगा। उन्होंने कोरोना वायरस महामारी से प्रभावित अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लाने के लिये बुनियादी ढांचा क्षेत्र में निवेश बढ़ाने पर विशेष जोर दिया। उद्योग मंडल भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के एक कार्यक्रम में उद्योगपतियों को संबोधित करते हुये दास ने कहा कि बुनियादी ढांचा क्षेत्र की वृहत परियोजनाओं में बड़े निवेश की आवश्यकता है। इससे अर्थव्यवस्था को गति मिल सकती है जैसा कि पूर्व में स्वर्णिम चतुर्भुज परियोजना में देखने को मिला था। उन्होंने कहा यह उत्तर-दक्षिण और पूर्व-पश्चिम एक्सप्रेसवे के साथ उच्च गति के रेल गलियारों के साथ शुरू हो सकता है। इससे संबद्ध अर्थव्यवस्था के कई अन्य क्षेत्रों तथा रेल/सड़क नेटवर्क के आसपास के इलाकों को लाभ होगा। हमारे बुनियादी ढांचा निवेश के वित्त पोषण में सार्वजनिक और निजी निवेश दोनों महत्वपूर्ण होंगे। दास ने कहा कि नीति आयोग के अनुसार देश को 2030 तक बुनियादी ढांचा क्षेत्र में निवेश के लिये 4,500 अरब डॉलर की जरूरत होगी। ढांचागत परियोजनाओं के वित्त पोषण के बारे में उन्होंने कहा कि बैंकों के इस क्षेत्र को दिये गये कर्ज से संबद्ध एनपीए (गैर-निष्पादित परिसंपत्ति) उच्च स्तर पर बना हुआ है। ऐसे में वित्त पोषण विकल्पों को विविध रूप देने की जरूरत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *