कानपुर : एक फिर पारिवारिक कलह बनी सिपाही की खुदकुशी का कारण

कानपुर : एक फिर पारिवारिक कलह बनी सिपाही की खुदकुशी का कारण

पति की मौत के बाद पत्नी ने भी मकान की तीसरी मंजिल से लगाई छलांग
-मामले की जानकारी पर पोस्टमार्टम पहुंचे एसएसपी ने सिपाही के पार्थिव शरीर को दिया कंधा
-गंभीर हालत में सिपाही की पत्नी का अस्पताल में चल रहा इलाज
कानपुर, 04 दिसम्बर । जिले में तैनात पुलिस विभाग के सिपाही ने जहरीला पदार्थ खाकर सुसाइड कर लिया। पति की मौत का पता चलते ही सिपाही की पत्नी ने भी गोविंद नगर स्थित आवास की तीसरी मंजिल से कूद गई। गंभीर हालत में सिपाही पत्नी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घटना की जानकारी पर पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया। सिपाही के खुदकुशी के पीछे एक बार फिर कानपुर में पारिवारिक कारण सामने आए हैं। फिलहाल पुलिस अफसर जांच कर सही वजह बताने की बात कह रहे हैं।

मूलरूप से कासगंज जनपद के थाना सहावर के ग्राम चौबे नगला निवासी राम सिंह का बेटा जसबीर सिंह शाक्य (34) पुलिस विभाग में सिपाही के पद पर तैनात था। इन दिनों सिपाही की तैनाती कानपुर जिले के जूही थाने में जेल ड्यूटी में तैनात था। यहां पर सिपाही गोविंद नगर थाना के कैनाल कालोनी में पत्नी प्रिया व पांच साल के बेटे के रहता था। जानकारी के मुताबिक दो दिन पूर्व दो दिसम्बर को सिपाही ड्यूटी से घर लौटा और काफी परेशान हालत दिखा। कुछ देर बाद उसने जहरीला पदार्थ खा लिया।

पत्नी ने पति की हालत देख परिजनों को जानकारी देते हुए पति को शहर के एक बड़े निजी अस्पताल में भर्ती कराया। जहां बुधवार को इलाजे के दौरान सिपाही के मौत हो गई। पति की मौत की जानकारी मिलते ही गम में घर पर पत्नी ने तीसरी मंजिल से कूद गई। चीख सुनकर स्थानीय लोग भी आवाक रहे गए। परिजनों ने आनन फानन गंभीर हालत में सिपाही की पत्नी को हैलट अस्पताल में भर्ती कराया। जहां उनके हालत नाजुक बनी हुई है।

घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस अधीक्षक दक्षिण रवीना त्यागी, सीओ गोविंद नगर, बाबूपुरवा अस्पताल पहुचे और मृतक सिपाही का शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम भेजते हुए घायल सिपाही पत्नी का हालचाल लिया। इस बीच विभागीय कर्मी की मौत के मामले में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अनंत देव भी पोस्टमार्टम हाउस पहुंचे। यहां पर उन्होंने कहा कि अभी सिपाही के जहरीला पदार्थ खाकर आत्महत्या के पीछे के कारणों की जानकारी स्पष्ट नहीं हो सकी है। फिलहाल जांच की जा रही है।

ड्यूटी का तनाव तो नहीं बनी वजह
सूत्रों की माने तो कई सालों से सिपाही जसबीर कानपुर के विभिन्न थानों में तैनात रहकर ड्यूटी कर रहा था। यहां पर उसे छुट्टी न मिलने को लेकर तनाव में होने की बात परिवार के लोग कह रहे हैं। हालांकि विभागीय स्तर पर इस तरह की बातों से इंकार किया जा रहा है।

बेटे का न बोल पाना से भी था तनाव

सिपाही जसबीर का एक पांच वर्षीय बेटा है जो ठीक से बोल नहीं पाता है। जिसका इलाज कई डाक्टरों द्वारा कराए जाने के बाद भी कोई सफलता नहीं मिल रही थी, इसको लेकर भी मृतक सिपाही तनाव में रहता था, ऐसा भी कुछ लोगों द्वारा कहा जा रहा है।
पारिवारिक कलह तो नहीं बनी सुसाइड का कारण
जानकारी के मुताबिक मृतक सिपाही की कई साल पूर्व आगरा में तैनाती थी। जिस मकान में सिपाही रहता था, उसकी मकान मालिक की बेटी से उसके नजदीकियां हो गई।

बताया जा रहा है कि यह नजदीकियां प्रेम प्रसंग तक जा पहुंची और पांच दिन पूर्व वह लड़की शादी तय होने पर अपनी मां के साथ कानपुर शहर आई थी। यहां पर उसे सिपाही से अपने रिश्ते को लेकर कुछ बातें की। इस बात की जानकारी सिपाही की पत्नी प्रिया को लगी तो घर पर दोनों के बीच कलह हुई। जिसके बाद सिपाही अगले दिन बिना पूर्व जानकारी व अवकाश के ही ड्यूटी पर नहीं पहुंचा और देर शाम उसने जहरीला पदार्थ खा लिया।

कई पुलिस कर्मी कर चुके हैं सुसाइड
पारिवारिक कारणों के चलते जनपद में तैनात कई पुलिस कर्मी पूर्व में सुसाइड जैसा कदम उठा चुके हैं। बीते साल तो जिले में तैनात एक आईपीएस ने गृह कलह में सल्फास खाकर सुसाइड कर लिया था। इसी तरह से बर्रा थाना में तैनात एक पुलिस कर्मी ने भी आत्महत्या जैसा कदम उठा लिया था।
काउंसलिंग को लेकर उठ रहे सवाल
पुलिस विभाग के आलाधिकारियों ने बढ़ते तनाव को लेकर पुलिस कर्मियों की काउंसलिंग कराने की बात कही गई। शुरुआत में यह हुआ भी, लेकिन वक्त के साथ काउंसलिंग कराने की प्रक्रिया मंद पड़ गई। अगर लगातार काउंसलिंग का क्रम जारी रखा जाता तो शायद सिपाही जसबीर सुसाइड जैसा कदम न उठाता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *