पाक ने बॉर्डर पर तैनात किए एफ-16, जवाबी कार्रवाई के लिए भारत सतर्क

नई दिल्ली : पुलवामा में सीआरपीएफ पर हुए आतंकी हमले के बाद से पाकिस्तान से बढ़े तनाव के बीच वायु सेना ने सरकार से तत्काल नए गोला-बारूद, लड़ाकू विमान और मिसाइलें खरीदने को कहा है।

एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान की ओर से F-16 लड़ाकू विमानों के जरिए भारत में घुसने को लेकर वायु सेना ने यह बात कही है। एयर फोर्स का कहना है कि हमें भी आधुनिक लड़ाकू विमानों की जरूरत है। बता दें कि पाकिस्तान के F-16 के मुकाबले भारतीय वायुसेना को मिग-21 को उतारना पड़ा था, जो काफी पुराना है।

यही नहीं पाकिस्तान ने अब पाक अधिकृत कश्मीर एवं अन्य इलाकों से आतंकी कैंपों को हटाकर फाटा क्षेत्र में शिफ्ट कर दिया है। इसके चलते अब ये कैंप भारतीय वायु सेना की पहुंच से दूर होंगे। यह क्षेत्र अफगानिस्तान की सीमा के करीब है। पाकिस्तान के फाटा क्षेत्र में फ्लाइंग ऐक्टिविटी रात में भी काफी ज्यादा रहती है, ऐसे में यहां कोई ऑपरेशन करना मुश्किल होगा। भारत ने लगातार हाई ऑपरेशनल अलर्ट बना रखा है। इसके चलते पूरी तरह मिसाइलों से फाइटर जेट्स को ज्यादा उड़ानें भरनी पड़ रही हैं। ऐसा करने से लड़ाकू विमानों की लाइफ भी कम हो रही है।

एक शीर्ष सरकारी अधिकारी ने बताया, मिसाइलों की एक निश्चित आयु होती है। इन्हें जब तक कैनिस्टर में रखा जाता है, तब तक इनकी लाइफ सालों के हिसाब से काउंट होती है। एक बार ऑपरेशन में लाने पर इनकी लाइफ इनके इस्तेमाल के आधार पर कम होती जाती है।

ऐसे में अब हमें नई मिसाइलों और लड़ाकू विमानों की जरूरत है। गोला-बारूद की जरूरत आमतौर पर एयर-टू-एयर मिसाइलों के लिए ही होती है। पाकिस्तानी एयर फोर्स को काउंटर करने वाले जेट इनसे लैस होते हैं। बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान की ओर से F-16 इस्तेमाल किए जाने के चलते वायु सेना की ओर से गोला-बारूद, लड़ाकू विमानों और मिसाइलों की खरीद का दबाव है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *