पीलीभीत में नकली नोट गैंग का पर्दाफाश, दो गिरफ्तार, दो फरार

पीलीभीत। बीती रात यशवंतरी देवी मंदिर मेले में पांच सौ के नकली नोट खपाते पकड़े गए किशोर से पूछताछ के बाद पुलिस ने देर रात कई जगहों पर छापेमारी की। इस दौरान एक घर से दो प्रिंटर, पांच सौ व दो सौ के नोटों के सांचे, छह कलर इंक के बोतल, नोट में डाले जाने वाले तार, गांधी जी की ट्रेश पेपर पर तस्वीर और कागज के बंडल बरामद हुए।

मामले में पुलिस ने किशोर समेत दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है। जबकि दो आरोपित फरार हैं।गिरोह में शामिल अन्य आरोपितों के भी नाम जुटाएं जा रहे हैं।
दरअसल, नवरात्र के उपलक्ष्य में यशवंतरी देवी मंदिर में लगने वाले मेले में मंगलवार रात शहर कोतवाली क्षेत्र का रहने वाला 17 वर्षीय किशोर पांच-पांच सौ के कई नकली नोट लेकर घूमने गया था।

किशोर दो दुकानों पर नकली नोट चलाने में कामयाब भी हो गया लेकिन, जब तीसरी दुकान पर पहुंचा तो दुकानदार ने हाथ में नोट लेते ही उसके नकली होने की बात पहचान ली। दुकानदार ने किशोर को पकड़ लिया और मामले की सूचना पुलिस को दी। लोकसभा चुनाव के दौरान नकली नोट पकड़े जाने से हड़कंप मच गया। मौके पर पहुंची पुलिस किशोर को पकड़कर थाने ले गई।

जहां एलआइयू सहित तमाम टीमें उससे पूछताछ में जुट गई। इस दौरान किशोर ने बताया कि वह उपाधि कॉलेज में पढ़ता है उसे गोपाल सिंह डोरीलाल फाटक निवासी शिवम वर्मा पुत्र विजय शंकर वर्मा नकली नोट आधे रुपये में देता था।

किशोर से पूछताछ के बाद पुलिस ने आरोपित शिवम के घर छापा मारा तो वह घर से फरार हो गया है। इसके बाद पुलिस ने देर रात दो-तीन अन्य जगहों पर भी छापामारी की। इस दौरान मुहल्ला आसफजान निवासी नितिन पटेल के घर से नकली नोट बनाने का सामान बरामद हुआ।

उसकी पत्नी सपना पटेल को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है, जबकि नितिन फरार हो गया। पुलिस का दावा है कि जिले में नकली नोट छापकर बाजार में खपाने वाला पूरा गिरोह काम कर रहा था। गैंग का सरगना नितिन पटेल है, जो अपनी पत्नी सपना पटेल के साथ घर पर नोट छापता था। वहीं, शिवम इन नोटों को आधे रेट में लोगों को बेचता था। जो इन्हें बाजार में खपाते थे। नितिन पूर्व में भी नकली नोट के एक मामले में उत्तराखंड में जेल जा चुका है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *