प्याज के स्टॉक होल्डरों के साथ मिली भगत के कारण दिल्ली में प्याज की कालाबाजारी – भाजपा..

प्याज के स्टॉक होल्डरों के साथ मिली भगत के कारण दिल्ली में प्याज की कालाबाजारी – भाजपा..

नई दिल्ली। मनोज तिवारी ने दिल्ली में प्याज के दामों में आये जबरदस्त उछाल को केजरीवाल सरकार की लापरवाही बताते हुय कहा कि प्याज ने एक बार फिर दिल्ली की जनता के किचन का बजट बिगाड़ दिया है, दामों में जबरदस्त इजाफा दर्ज किया गया है और प्याज दिल्ली में 100 रूपये प्रति किलों बिक रही है और यदि यही स्थिति रही तो 100 का आंकड़ा पार कर जायेगी। 100 रूपये के दाम में प्याज आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग व मध्यम वर्ग के लोगों की पहुंच से दूर जा रही है।प्याज की समस्या को लेकर केन्द्र सरकार ने दिल्ली सरकार को कई बार पत्र लिखकर प्याज के भण्डारण के लिए कहा, लेकिन दिल्ली के मुख्यमंत्री ने प्याज की पर्याप्त मात्रा बताकर केन्द्र सरकार से प्याज लेने से इंकार कर दिया। आखिर मुख्यमंत्री जनता के दुश्मन बने हुये हैं, जमाखोरों को क्यों बढ़ावा दे रहे हैं। प्याज जैसी मूल खाद्य पदार्थ की बढ़ती कीमतों को रोकने में क्यों केजरीवाल सरकार फेल है।तिवारी ने कहा कि दिल्ली सरकार के पास प्राइज स्टेबिलाइजेशन फंड है जिसमें उपलब्ध करोड़ों रूपये आपातकाल में बढ़ती कीमतों पर लगाम लगाने व भण्डारण के लिए है, यदि दिल्ली सरकार ने इसका इस्तेमाल किया होता तो आज दिल्ली में प्याज की कीमतें आसमान न छू रही होती। केन्द्र सरकार ने प्राइज स्टेबिलाइजेशन फंड का इस्तेमाल करके भंडारण किया है जिसे वह केन्द्रीय भण्डार, नैफेड, एन.सी.सी.एफ और मदर डेयरी के बूथों के माध्यम से 23.90 पैसे प्रति किलों प्याज बेच रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *